ऐसी कोन सी चीज है जिसे Boy हर रोज पहानता है


ऐसी कोन सी चीज है जिसे  Boy हर रोज पहानता है

अचूक उत्तर काय असेल| पटापट उत्तर सांगा

अचूक उत्तर काय असेल| पटापट उत्तर सांगा



कोणकोण हुशार आहेत पाहू या

कोणकोण हुशार आहेत पाहू या.....
एकूण किती रुपये आहेत सांगा बरं
सोपं आहे....पण बर्‍याच लोकांचं उत्तर चुकणार आहे ....करा कमेंट पटापट..

आजी-आजोबा, कॉम्प्युटर मधून नातवंडांना मराठी शिकवा

आजी-आजोबा, कॉम्प्युटर मधून नातवंडांना मराठी शिकवा
आपल्या नातवंडांना आजी-आजोबा कॉम्प्युटर मधून मराठी शिकवू
शकतात.

होय, हे आम्ही घडवले आहे आणि मोफत उपलब्ध केले आहे.

त्याचे नाव आहेशिशुविहार’.

आजी-आजोबांना कॉम्प्युटरची भिती वाटायला नको.

केवळ फाईलवर क्लिक करा.

त्या फाईल्स मध्ये नातवंडांसाठीकमळ’, ‘बदक’, ‘अननसअशी
चित्रे दिली आहेत.

तुम्हाला त्या फाईलीतल्या केवळ ठराविक ठिकाणीच जाता येईल.

तेथे आम्ही फॉण्ट आधीच सिलेक्ट केलेला असतो.

त्याच बरोबर शेजारी कोणती चावी दाबावी ते दिलेले असते.

 ‘k’ दाबले कीकमळ’,  ‘b’ दाबले कीबदक’ ‘a’ दाबले कीअननसपूर्ण शब्द आपोआप उमटतो.

असे अनेक तक्ते दिले आहेत. त्यातून नातवंडांना शिकवताना आजी-आजोबा ही कॉम्प्युटर मध्ये
मराठी टायपिंग शिकतात. बोबडे बोलायला यायच्या आधीच संगणकाशी मराठीतून नातवंडांची
दोस्ती होते.

लहानपणापासूनच मुलांनासंगणक = मराठीहे
समिकरण मनात ठसते.

नंतर त्यांनाजलद सोप्पी मराठीसहजतेने वापरता येते.

यामुळे आता पुढील पिढीला मराठी बोलता आणि लिहीता-वाचता
नक्की येईल.

मराठीच्या सर्वांगीण विकासासाठी आम्हीशिशुविहारजगाला, आमच्या

वेबवरून मोफत उपलब्ध केले आहे.

यशाची व्याख्या काय?

यशाची व्याख्या काय?
यशाची व्याख्या काय?

यशस्वी कोणाला म्हणायचे ?

सचिन तेंडूलकरच्या मेहनतीला कि

धीरूभाई अंबानी च्या व्यवहार ज्ञानाला कि

धोनी च्या तल्लख बुद्धीला..............

म्हणता येईल का ह्यांना यशस्वी?

आणि जर म्हणायचे यशस्वी तर का?

ह्यांनी कमावलेल्या पैश्याला कि

ह्यांनी कमावलेल्या नावाला ?



जर त्यांनी कमावलेल्या पैश्याला चा याशावी म्हणायचे तर मग

लालू, कोड च्या भ्रष्टाचाराने कमावलेल्या पैश्याला पण याशावी म्हणायचे का ?

का मग पवार साहेबान सारखे अल मिळी गुपचिळी ला यशस्वी म्हणायचे



का गेल्या वर्षात अफाट लोकप्रियता मिळवलेल्या राज ठाकरेंना याशावी म्हणायचे ?

आणि जा राज ठाकरेंना यशस्वी म्हणायचे तर मग गेले कित्येक वर्षे लोकांसाठी झगडणाऱ्या अन्न हजारेना का नाही यशस्वी म्हणायचे?



काय आहे काय व्याख्या ह्या यशाची ?



पैसा कमावणे म्हणजे यश कि प्रसिद्धी कमावणे म्हणजे यश ?


मला यश पाहिजे आहे ..........सांगाल का काय करू ते ?

योग्य जोडीदार निवडावा तरी कसा?

आधीच्या काळात मोठे जसे निवड करतील तसाच/तशीच जोडीदार/जोडीदारीन आपल्याला योग्य वाटायची!
पण आजच्या काळात मोठे आपली निवड पण विचारात घेत आहेत त्या मुळे आपल्याला बरे वाटत असले तरी निवड करताना ती कशी करायची हे समजत नाही!
आपला जोडीदार/जोडीदारीन कशी असावी /असावा हे आपण मनात ठरवले असते पण त्या वेळी निवड करताना काहीतरी कमी असते ,तर काहीतरी आपल्याला पटत नसते मग अश्या वेळी आपण काय करावे ..........?आपण निवड काय बघून करावी?तुम्ही कशी निवड कराल?

)पैसा बघून
)सौंदर्य बघून
)स्वभाव बघून(एका भेटीत तो कसा समजणार?)
)कुटुंब कसे आहे त्यावरून
)मोठ्यांबरोबर बोलून
)फारसा विचार करता जे होईल ते होईल असा विचार करून


आपली मते विचार करून मांडा .......

Test UR Knowledge comment The missing Letters in the Keyboard

Test UR Knowledge comment The missing Letters in the Keyboard


रेल्वे रिक्रुटमेंट बोर्ड, मुंबई

रेल्वे रिक्रुटमेंट बोर्ड, मुंबई

**** रेल्वे रिक्रुटमेंट बोर्ड, मुंबई ****

पदाचे नाव :
कमर्शिअल अप्रेंटीस (१२९),
ट्रॅफिक अप्रेंटीस (२१३),
गुड्स गार्ड (६८),
सिनीअर क्लार्क (८४),
ज्यु. अकाउंट असिस्टंट (४३१),
असि. स्टेशन मास्तर (९७६)

एकूण पदसंख्या : १९०१

शैक्षणिक पात्रता : कोणत्याही शाखेचा पदवीधर
वयोमर्यादा : १८ ते ३२ वर्ष

फॉर्म : ऑनलाईन

परीक्षा शुल्क : खुला प्रवर्ग-रु.१००/-, महिला इतर - फी नाही

अंतिम दिनांक : २५ जानेवारी २०१६

परीक्षा दिनांक : अंदाजे मार्च-मे २०१६


*** सदर जागा फक्त मुंबई विभागाच्या आहेत ***

मुर्गी पहले आई या अंडा, सुलझ गई है पहेली

पहले अंडा आया या मुर्गी ?

यह सवाल सदियों से वैज्ञानिकों और दर्शनशास्त्रियों का भेजा मथता रहा है कि कौन पहले आया मुर्गी या अंडा?

आप बताइए कि कौन पहले आया.

अगर आप कहेंगे कि अंडा तो अगला सवाल होगा कि अंडा दिया किसने.

और अगर आप कहेंगे कि मुर्गी पहले आई तो सवाल होगा कि मुर्गी आसमान से तो टपकी नहीं होगी, वह किसी अंडे से ही निकली होगी. तो अगर वह अंडे से निकली तो अंडा पहले से था...

आप चकरा जाएँगे, झुँझला जाएँगे...परेशान हो जाएँगे लेकिन जवाब मिलेगा नहीं.

लेकिन अब वैज्ञानिकों ने इस यक्ष प्रश्न का जवाब ढूंढ़ निकालने का दावा किया है। 

शेफील्ड और वारविक विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों के एक दल ने दावा किया है कि धरती पर अंडे से पहले मुर्गी का जन्म हुआ था। वैज्ञानिकों ने पाया कि ओवोक्लाइडिन नाम का प्रोटीन अंडे के खोल के निर्माण में बहुत महत्वपूर्ण होता है।

उन्होंने बताया कि यह प्रोटीन मुर्गी के अंडाशय से पैदा होता है इसलिये पहले अंडा आया या मुर्गी अब यह पहेली सुलझ गई है। वैज्ञानिकों ने कहा कि पहले मुर्गी आई और इसके बाद अंडा पैदा हुआ।

डेली एक्सप्रेस के मुताबिक रिपोर्ट में यह नहीं बताया गया है कि प्रोटीन पैदा करने वाली मुर्गियां पहले कैसे आईं। इस दल ने अंडे के खोल को देखने के लिये अत्याधुनिक कंप्यूटर हेक्टर का इस्तेमाल किया।

  शोध से जुडे़ प्रमुख वैज्ञानिक डॉ. कोलिन फ्रीमैन ने कहा, 'लंबे समय से यह संदेह बना हुआ था कि अंडा पहले आया लेकिन अब हमारे पास वैज्ञानिक सबूत है जो हमें बताता है कि मुर्गी पहले आई।


"मुर्गी के अंडे का खोल बनाने के लिए आपके पास मुर्गी होनी चाहिए, आप तर्क दे सकते हैं कि आपको ओसी17 प्रोटीन की ज़रुरत होगी और वह मुर्गी के पास है क्योंकि अंडे का खोल तैयार करने के लिए जिस प्रोटीन की ज़रुरत है वह सिर्फ़ मुर्गी के अंडाशय में होता है. वह मुर्गी शरीर में और कहीं नहीं होता!"  :-

Find The Mistkes in the Picture| Puzzle










Find The Mistkes in the Picture

100+ हिन्दी पहेलियाँ |पहेलियाँ हिन्दी में

हिन्दी पहेलियाँ

1)चावल की पोटली

एक दिन शर्माजी के यहाँ संदेश आया की कल सुबह महात्माजी भिक्षा के लिए आयेंगे. भिक्षा में वे १किलो से १५ किलो तक किसी भी मात्रा में चावल की मांग करेंगे उन्हें ठीक उतने ही चावल मिलाना चाहिए तथा वे केवल मिनिट के लिए रुकेंगे. शर्माजी ने अपनी बहु से कहा की १किलो ,२किलो ,..........१५ किलो ऐसी मात्रा में चावल की पोटलिया बांध कर रख दो जिससे उन्हें समय पर तुरंत उचित मात्रा में चावल दिए जा सके. इस पर उनकी श्रीमतीजी ने कहा की इस तरह तो हमे बहुत सारे चावल खरीदना पड़ेंगे . अच्छा होगा की हम -१किलो की १५ पोटलिया बना ले . इस पर शर्माजी ने कहा की यदि महात्माजी ने १२ किलो की मांग की तो क्या हम उन्हें १२ पोटलिया देंगे? सासससुर की नोंक-झोंक सुन बहु ने कहा की आप लोग चिंता करे मै सब सम्हाल लुंगी. बहु ने अलगअलग वजन की चार पोटलिया बनाई और कहा की इससे काम चल जायगा. महात्माजी कितने भी चावल मांगें उनकी मांग तुरंत पूर्ण कर दी जाएगी. सासुजी को इस पर विश्वास नहीं हुआ. क्या आप बता सकते है की बहु सही थी या गलत? यदि सही थी तो पोटलियों में कितने-कितने चावल थे?




2) किसी दूकान पर चोकालेट समबाहू त्रिभुज(equilatural triangle) के आकार में मिलती है .2CM भुजा वालीचोकालेट 2रुपयेमें तथा 3cm वाली चोकालेट 4रुपये में मिलती है यदि आपके पास चार रुपये हैं तो आप क्या खरीदेंगे 3CM वालीएक या2CM वाली दो



3) बात पुराने ज़माने की है . एक सराय में तीन यात्री रुके है. रात को उन्हे पता चलता है की वहां भोजन कोई व्यवस्था नहीं है.वे सोचते है की हर एक के पास कुछ -कुछ होगा ही वही मिल बांटकर खा लेंगे. पहले यात्री के पास पांच पराठे,दुसरे यात्री के पास तीन पराठे थे. परन्तु तीसरे यात्री के पास कुछ भी नहीं था. पहले दोनों यात्री उसे भी भोजन में शामिल कर लेते है . वे सभी प्रेम से भोजन कर सो जाते है. सुबह तीसरा यात्री सबसे पहले जाने के लिए तैयार हो जाता है. वह दोनों को धन्यवाद देते हुए आठ रुपये भी देता है .दूसरा यात्री कहता है की हम आधे आधे रुपये बांट लेते है. पहला यात्री इस बात का विरोध करते हुए कहता है की मुझे पांच रुपये मिलाना चाहिए क्योंकी मेरे पास पांच पराठे थे. दूसरा यात्री नहीं मानता, दोनों में झगडा हो जाता है.सराय का मालिक उन्हे पंचायत में ले जाता है. गाँव का सरपंच सारा मामला सुन कर पंचों से विचारविमर्श कर एक अनोखा निर्णय करता है. वह सात रुपये पहले यात्री को तथा एक रूपया दुसरे यात्री को देता है और झगडा समाप्त कर देता है. क्या सरपंच ने सही फैसला किया? या पक्षपात किया ? आपको कारण सहित फैसले की समीक्षा अथवा आलोचना करना है. धन्यावाद .



4) (पांचवी से आठवी कक्षा के बच्चों के लिए )आज छोटे छोटे तीन प्रश्न पूछे रहें है
(1)1.95 इस संख्या को कैसे पढ़ा जायेगा ? आपको एसा बताया गया होगा की एक दशमलव् पच्यानावे एसा कहना गलत होगा.जबकि एक दशमलव् नो पांच सही होगा.क्या कोई इसका कारण बता सकता है ?
(2) 1.95 मि. कितने मी. कितने सेकेंड होंगे ?
(3 ) चार बजकर बीस मिनिट इस समय पर घडी के काटों के बीच कितना कोण(angle) होगा ?



5) . इसमें पहला प्रश्न था कि 1.95 को कैसे पढ़ा जाए
हम जिस अंक पध्धति का उपयोग करते है, वह दशमलव पध्धति (decimal system) कहलाति है. इसमें शुन्य सहित दस अंको का उपयोग किया जाता है. हर अंक के दो मान होते है, आंकिक मान तथा स्थानीय मान. उदाहरण के लिए 195 में 9 का आंकिक मान तो 9 है, परन्तु स्थानीय मान 9x10=90 है. स्थानीय मान बायीं तरफ दस की घात में बढ़ता जाता है. यहाँ 1 का स्थानीय मान 1x100 =100 है. दशमलव बिंदु के बाद स्थानीय मान दस की घात में घटता जाता है. 1.95 में 9 का स्थानीय मान 9x(1/10) = 9/10 है. इसी प्रकार 5 का स्थानीय मान 5x(1/100)=5/100 है. स्पष्ट है कि 0.95 को दशमलव पिच्यानवे कहना गलत होगा.
. प्रश्न था 1.95 मिनट, कितने मिनट कितने सेकंड होंगे.
0.95 को पिच्यानवे सेकंड मानने के कारण कुछ लोगो ने इसका उत्तर 2 मिनट 35 सेकंड ऐसा दिया है, जो कि पूरी तरह गलत है. 1.95 मिनट 2 मिनट से 0.05 मिनट कम होगा. 0.05 मिनट=0.05x60 सेकंड=3 सेकंड. अतः उत्तर होगा 1 मिनट 57 सेकंड.


6) यह पहेली छोटे से ये बड़े सभी लोगों के लिए हैं. क्या आप एक जमात के बारे में जानते है?जिसमे चार वर्ण के लोगरहते है ,आधे काले आधे गोरे.कहते है की इनका मूल तो भारत में ही है पर अब ये सारी दुनिया में फ़ैल गए है.एक बस्ती में इनकी संख्या निश्चित होती है .मै संख्या बताऊंगा तो वह एक हिंट हो जाएगी पर इतना बताता हूं की इनकी संख्या और आयु हमेशा स्थिर होती है .सबकी आयु का योग 364 आता है जो साल के दिनों की संख्या के करीब है उनकी संख्या का भी एक साल से कुछ संबध है.इनका जो सरदार है वह एकदम काला होता है .इनसे आपका वास्ता तो जरुर पड़ा होगा!.क्या ध्यान नहीं आया?हो सकता है आपके घर में ही तो इनकी एखाद बस्ती हो .


7) इस पहेली का गणित से कोई सम्बन्ध नहीं है इसलिए यह पहेली छोटे से बड़े सभी आयु के लोगो के लिए है. यदि मै विषय की बात करूँगा तो वह एक तरह से संकेत हो जायेगा. अतः विषय आपको तय करना है. साथ में सलंग्न विडियो को बार-बार ध्यान से देखकर आपको यह बताना है की अतिसामान्य दिखने वाले इस विडियो में क्या विशेषता है. मैंने इसमें मुख्य रूप से तीन बाते नोटिस की है, जिसके बारे में मै एक सप्ताह बाद बताऊंगा. जिन लोगो के उत्तर मेरे उत्तर से मेल खायेंगे उनके नाम भी हल के साथ दिए जायेंगे. अगर कोई ऐसा पक्ष या बिंदु हुआ जो मै नहीं देख पाया हूँगा पर आपने देखा होगा तो उसका भी ज़िक्र किया जायेगा.
धन्यवाद


8) पहेली क्रमांक 8 - यह पहेली कक्षा 10 तथा छोटी कक्षाओ के बछो के लिए है.
कक्षा 10वी की परीक्षा में पांच विषय है.एक हिंदी -H, इंग्लिश -E, गणित- M, विज्ञान- S, सामाजिक विज्ञान- SS. एक भी विषय में फेल छात्र को परीक्षा में फेल माना जायेगा.प्रवीण नाम का एक छात्र इतना होशियार है कि वह जिस भी विषय में पास होना चाहे तो पास हो सकता है या फेल हो सकता है. वह फेल होना चाहता है. परंतु वह तय नहीं कर पा रहा है कि कैसे फेल हो क्योंकि फेल होने के बहुत सारे रास्ते उसे दिख रहे है.उदाहरण के लिए H ,M में फेल होना एक प्रकार है. H, E में फेल होना अलग प्रकार है, H ,E, M में फेल होना और भी अलग परके है.क्या आप बता सकते है कि फेल होने के कितना विकल्प प्रवीण के पास मौजूद है. फेल होने के सही प्रकार बता दे तो आप पास माने जायेंगे और प्रवीण कहलायेंगे.


9)पहेली क्रमांक 9) पार्थ और प्रताप दो दोस्त होस्टल में रहते है.ठण्ड के दिन हैं उन्हे नहाने के लिए 5 Lt गरम पानी और 10 Lt ठंडा पानी मिला है पर अभी नहाने के लिए दस मिनिट तक बाथरूम खालीनहीं है पार्थ गरम और ठन्डे पानी को मिक्स कर रख लेता है.दस मिनिट बाद बाथरूम खाली होता हैतब प्रताप दोनों तरह के पानी को मिलता है.अब नहाते समय किसका पानी तुलनात्मक रूपसे अधिक गरम होगा.कारण सहित बताने की कोशिश करें .



पहेली क्रमांक (10)
टेबलटेनिस क्लब में नॉकआउट पद्धति से एक प्रतियोगिता आयोजित की गयी है. एकबार हारे खिलाडी को दूसरा मौका नहीं मिलेगा वह प्रतियोगिता से बाहर हो जायेगा.जीता खिलाडी अगले चक्र में जायेगा.यदि किसी चक्र में खिलाडियों की संख्या विषम हो तो एक खिलाडी को वाकओवर देकर बिना खेले ही आगे बढ़ा दिया जाता है. कुल 219 खिलाडियों ने प्रतियोगिता में भाग लिया हो तो अंतिम विजेता चुनने के लिए कितने मैचेस खिलाने होंगे?




पहेली क्रमांक (11)
घर की ड्राइंगरूम की नाप 12 फीट X 12 फीट है, कमरे में बिछाने के लिए कारपेट खरीदने के लिए शर्माजी दूकान पर जाते है. जो कारपेट उन्हे पसंद आती है उसका लम्बा रोल दूकान में है उसकी चौड़ाई 9 फीट है. दुकानदार कहता है की वह टुकड़ो को जोड़ कर कमरे के साइज़ की कारपेट बना देगा, सिलाई एसी की नज़र भी नहीं आएगी. शर्माजी उसके सामने एक शर्त रखते है कि टुकडे दो से जादा नहीं होने चाहिये. बचे हुवे टुकड़ों का दूकानदार को कोई उपयोग नहीं है. कम से कम कितनी लम्बाई का कारपेट खरीदना जरुरी है? 16 फीट या 20 फीट या 24 फीट या कुछ और. हल एसा हो की शर्माजी की शर्त भी पूरी हो जाये और अतिरिक्त पैसे भी लगे. (सिलाई के कोई पैसे नहीं लगेंगे).



पहेलियाँ (क्रमांक 12 )
सोने के सिक्के
रमणभाई ने अपने विवाह की पहली सालगिरह पर पत्नी को एक तोला सोने का हार उपहार में दिया. बाद में उनके धंदे में एसी बरकत रही की अगले साल दो तोले उसके अगले साल तीन तोले का कोई आभूषण उन्होंने भेंट में दिया. इसी तरह साल दर साल एक एक तोला सोना बढ़ता ही गया. पचिसवी सालगिरह पर उन्होंने 25 तोले का स्वर्ण मुकुट भेंट में दिया. पत्नी ने कहा की बस अब बहुत हो गया मेरा मन तृप्त हो गया है. मैने सारे उपहार सम्हाल कर रखे हैं. और मै अब ये बच्चों में बांट देना चाहती हूं. समस्या यह है की उनके पांच बच्चे हैं, और एक तोला, दो तोला, तीन तोला, इस तरह 25 तोले तक के पचीस आभूषण है. वे प्यार के उपहार है अतः किसी भी उपहार को तोड़ने अथवा सोने को गलाने का उनका मन नहीं है. उनका नाम कान्ताबेन है वे चाहती है की हर बच्चे को पांच आभूषण मिले तथा हरएक को मिलने वाले सोने की मात्रा समान हो. समस्या का समाधान नहीं हो रहा है. हल सुझाने वाले को वे एक तोला सोना देने के लिए भी राजी हैं. क्या आपके पास कोई हल है? कोशिश करने में क्या हर्ज़ है हो सकता है आपके नसीब में एक तोला सोना लिखा हो.



पहेलिया क्रमांक  (13 )
सेठ सुजानमल अनाज के बड़े व्यपारी थे. वे इमानदार तथा उदार भी थे. दूर-दूर के लोग उनके यहाँ अनाज खरीदने आते थे. एक गधा तीन मन अनाज का बोझ ढोसकता था. इसलिए सेठजी ने एक तराजू बनवाई इसमे एकसाथ 121 सेर अनाज तोला जा सकता था ( एक मन 40 सेर का होता है ) तीन मन अनाज खरीदने पर एक सेर अनाज बोनस में दिया जाता. सेठजी ने पिछले दिनों खूब नफा कमाया और रुपयों को चाँदी में बदल लिया था. उनके पास पच्चीस धडी चाँदी जमा थी( एक धडी पांच सेर की होती है ) उसे कहाँ सम्हाल कर रखें? उन्होंने एक निर्णय लिया. चाँदीके बाँट बनाकर तोल करने का. खूब विचार करने पर भी उन्हे समझ में नहीं आया की 125 सेर चाँदी में कैसे और कितने बांट बनाये की एक सेर से ले कर 121 सेर तक का कोई भी वजन एक बार में तोला जा सके. तब उन्होंने अपने होशियार सुनार को बुलाया और समस्या हल कर चाँदी गला कर बाँट बनाने को कहा. समस्या हल करने के अलग पैसे दिये जाने का वाद भी किया. सुनार ने प्रस्ताव रखा की वह 125 सेर चाँदी में यह काम कर दिखायेगा और सेठजी से कोई मेहताना भी नहीं लेगा.परुन्तु यदि कुछ चाँदी बच जाएगी तो वह उसकी हो जाएगी. सेठजी ने प्रस्ताव मानलिया. अब आपको यह बताना है की सुनार ने कितनी चाँदी काटी ( कमाई )?



पहेलियाँ क्रमांक (14 )

राम और श्याम में 100 मीटर दौड़की प्रतियोगिताहुई जिसमे राम जितगया. जब राम अंतिम छोर पर था तब श्याम 95 मीटर मार्क पर ही पहुंचाथा.तब श्याम ने कहा कीमै छोटाहूं इसलिए मुझे कम दुरी दौड़ना चाहिए.बराबरी के मुकाबले के लिए अब राम मुझसे पांचमीटर पीछे खड़ा होगा. अर्थात रामको 105M तथा श्याम को 100M दौड़ना होगा.राम राजी हो जाता है.अब यह मानते हुवे की दोनों उसी गति से दोड़े जैसे पहले दोड़े थे तोअब दौड़ का परीणाम क्याहोनाचाहिए? 1रामजीतेगा 2श्यामजीतेगा 3 दोनोंमें बराबरी होगी


पहेली क्रमांक  (15)
सचिन को उज्जैन से इंदौर जाकर निश्चित समयमें वापस आना है.वह हिसाब लगाता हैकीऔसत 50km की चाल से चलने पर वह ठीक समयपर पहुँच जायेगा. समयपर पहुँचने की चिंता के कारण वह तेजीसे जाता है इंदौर पहुँच कर हिसाब लगाता है तोउसे आश्चर्य होता हैकी वह60kmकीचाल सेआयाहै. आते समय बेफिकर होकर आराम से40kmकीऔसत चाल से लौटता.क्या वह निर्धारित समय पर पहुँच गया होगा ? नहीं तो जल्दी या देरी से .अच्छा होगा की आप इस प्रश्न को बिना गणना के केवल तर्क से हल करें .गणना से हल भी उल्लेखनीय होगा .


पहेलीया क्रम ( 16)

इस प्रश्न का उत्तर तर्क सहित अपेक्षित है।। नदियां सागर को भरती हैं या सागर नदियों को पानी देता है?